केरल के जोसेफ को three बार संक्रमण हुआ, पहली बार विदेश में और दो बार केरल में रिपोर्ट पॉजिटिव आई; हर बार पहला लक्षण सांस लेने में तकलीफ

  • Hindi News
  • Happylife
  • Kerala Coronavirus Covid 19 Twice Thrice Cases: Here’s Latest News Updates Thrissur District

14 दिन पहले

  • कॉपी लिंक
  • बार-बार संक्रमण के डर से अपनी 7 माह की जुड़वा बच्चियों से नहीं मिल सके जोसेफ
  • डॉक्टर्स के मुताबिक, जोसेफ में वायरस के कुछ समय तक निष्क्रिय रहने के बाद सक्रिय हुआ

केरल में त्रिशूर के रहने वाले सैवियो जोसेफ पिछले 7 महीने में तीन बार कोरोना से जूझ चुके हैं। इनका मामला डॉक्टरों के लिए पहेली बना हुआ है। 38 साल के जोसेफ को पहला संक्रमण मार्च में हुआ, जब वह विदेश में थे। मस्कट (ओमान) में एक बार संक्रमण होने के बाद दो बार केरल में उनकी कोविड-19 रिपोर्ट पॉजिटिव आई।

जोसेफ के मुताबिक, बार-बार संक्रमण के डर के कारण वह अपनी 7 माह की जुड़वा बच्चियों से अब तक नहीं मिल सके हैं।

त्रिशूर जिले की मेडिकल ऑफिसर डॉ. केजे रीना का कहना है, केरल में कोरोना के री-इंफेक्शन का यह पहला मामला है। ऐसा लगता है कि वायरस शरीर में कुछ समय तक निष्क्रिय रहा और बाद में एक्टिव हुआ, इसलिए रिपोर्ट पॉजिटिव आई।

कब-कब हुआ संक्रमण

पहला संक्रमण : 17 मार्च को बुखार और सांस लेने की तकलीफ होने पर भर्ती हुए
पहला संक्रमण मार्च में मस्कट में हुआ। जोसेफ को बुखार और सांस लेने में दिक्कत हुई। 17 मार्च को मस्कट के सुपर स्पेशिएलिटी हॉस्पिटल में भर्ती हुए। उनका निमोनिया का इलाज चला। जोसेफ की कोविड रिपोर्ट निगेटिव आई लेकिन उनका कहना है, उनके सम्पर्क में आए कलीग, डॉक्टर्स और नर्स की रिपोर्ट पॉजिटिव आई।

दूसरा संक्रमण : रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर 18 जुलाई को फिर भर्ती किया गया
जोसेफ 28 जून को भारत आए तो एयरपोर्ट पर जांच हुई। रिपोर्ट निगेटिव आई। वह कुछ दिन घर पर क्वारैंटाइन रहे। फिर कुछ समय बाद सांस लेने में तकलीफ होने पर उन्होंने स्थानीय सरकारी अस्पताल से सम्पर्क किया। कोविड-19 की जांच हुई और रिपोर्ट पॉजिटिव आई। 18 जुलाई को उन्हें थ्रिसूर के गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज में भर्ती किया गया। इलाज के बाद रिपोर्ट निगेटिव आने पर 1 अगस्त को हॉस्पिटल से डिसचार्ज किए गए। इसके बाद जोसेफ घर में eight दिन तक क्वारैंटाइन भी रहे।

तीसरा संक्रमण : three सितम्बर को फिर कोरोना की पुष्टि हुई
कुछ समय बाद जोसेफ को फिर सांस लेने में तकलीफ और फेफड़ों में दर्द महसूस हुआ। उसने दोबारा डॉक्टर से सलाह ली। डॉक्टर्स ने पल्मोनरी फाइब्रोसिस और हाई वायरस लोड का खतरा बताया। जांच हुई और three सितम्बर को एक बार फिर कोविड रिपोर्ट पॉजिटिव आई। थ्रिसूर मेडिकल कॉलेज में इलाज के बाद 11 सितंबर को रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद जोसेफ को डिस्चार्ज किया गया।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here