प्लेन यात्रा के eight दिन बाद एक कोरियाई महिला को हुआ संक्रमण, सिर्फ टॉयलेट इस्तेमाल करते समय उतारा था N95 मास्क

  • Hindi News
  • Happylife
  • South Korea Coronavirus News Updates; South Korean Woman Gets COVID For Using Toilet In Air Travel

2 महीने पहले

यात्रा के दौरान 28 वर्षीय महिला ने मास्क सिर्फ टॉयलेट का इस्तेमाल करते वक्त और खाना खाते समय उतारा था। प्रतीकात्मक फोटो

  • विशेषज्ञों के मुताबिक, यह कोरियाई महिला 300 यात्रियों के साथ सफर कर रही थी
  • संक्रमण टॉयलेट की सतह छूने या वहां के संक्रमित ड्रॉपलेट के सम्पर्क में आने से हुआ

हवाई यात्रा के दौरान टॉयलेट इस्तेमाल करने पर कोरोना का संक्रमण होने का अपनी तरह का अनोखा मामला सामने आया है। साउथ कोरिया की रहने वाली 28 साल की महिला विमान में 300 यात्रियों के साथ थी। महामारी की घोषणा के बीच उसे 31 मार्च को इटली के मिलान शहर में उतरना पड़ा था। यह दावा साउथ कोरिया के रिसर्चर्स ने किया है।

सियोल की सुंचूंहयांग यूनिवर्सिटी में हुई रिसर्च के मुताबिक, महिला ने पूरी यात्रा के दौरान एन-95 मास्क पहन रखा था सिर्फ टॉयलेट का इस्तेमाल करते समय उसने इसे हटाया था।

6 पॉइंट्स कब और कैसे संक्रमित हुई

  • इमर्जिंग इंफेक्शियस डिसीज जर्नल में प्रकाशित खबर के मुताबिक, यात्रा के दौरान एक ऐसे यात्री ने टॉयलेट का इस्तेमाल किया, जो एसिम्प्टोमैटिक था। उसके बाद महिला जब टॉयलेट गई तो संक्रमित सतह को छुआ या कोरोना से संक्रमिण कणों के सम्पर्क में आई।
  • रिसर्चर्स का कहना है कि यह विमान यात्रा साउथ कोरिया के अधिकारियों ने कराई थी। इस दौरान प्लेन में बैठने से पहले सभी यात्रियों की जांच भी हुई थी।
  • कुल 310 यात्री मिलान एयरपोर्ट पर उतरे थे। इनमें से 11 में कोरोना के लक्षण दिखे थे और इन्हें प्लेन में वापसी की अनुमति नहीं दी गई थी।
  • मिलान से वापस प्लेन में पहुंचने वाले सभी यात्रियों को एन-95 मास्क दिए गए थे। बोर्डिंग से पहले सभी एक-दूसरे से 6 फीट की दूरी पर थे। सिर्फ खाना खाने और टॉयलेट का इस्तेमाल करने के अलावा पूरे समय तक सभी ने मास्क पहन रखे थे।
  • 11 घंटे की यात्रा के बाद जब 299 यात्री साउथ कोरिया पहुंचे को उन्हें दो हफ्ते के लिए क्वारैंटाइन किया गया। इनमें 6 में कोरोना की पुष्टि होने पर अस्पताल में भर्ती किया गया।
  • क्वारैंटाइन के 8वें दिन 28 साल की उस महिला में कोविड-19 के लक्षण दिखने शुरू हुए। उसे खांसी आई, नाक से पानी बहा और मांसपेशियों में दर्द हुआ। उसे 14वें दिन हॉस्पिटल में भर्ती किया गया।

महिला से three कतार पीछे बैठा था एसिम्प्टोमैटिक शख्स
रिसर्चर्स के मुताबिक, महिला को जिस एसिम्प्टोमैटिक शख्स से संक्रमण फैलने की बात की जा रही है वह उनसे तीन कतार (रो) पीछे बैठा था। मिलान शहर में महिला घर से बाहर नहीं निकली और three हफ्ते तक खुद को क्वारैंटाइन में रखा। रिसर्चर्स ने हिदायत दी कि विमान में यात्रा करते समय एसिम्प्टोमैटिक इंसान से भी कोरोना का संक्रमण होने का खतरा रहता है।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here