Coronavirus Vaccine India News Update | Drug Company Glenmark To Launch Fabiflu (400 Mg) For Covid-19 Treatment | ड्रग कम्पनी ग्लेनमार्क कोविड-19 की दवा ‘फैबीफ्लू’ का 400 एमजी वाला वर्जन लॉन्च करेगी, एक टेबलेट की कीमत होगी 75 रुपए; कम टेबलेट में डोज पूरा करने का लक्ष्य

  • Hindi News
  • Happylife
  • Coronavirus Vaccine India News Update | Drug Company Glenmark To Launch Fabiflu (400 Mg) For Covid 19 Treatment

नई दिल्ली12 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • फैबीफ्लू का इस्तेमाल कोरोना के हल्के और मध्यम लक्षणों वाले मरीजों का इलाज करने में किया जा रहा है
  • ग्लेनमार्क को फैबीफ्लू के निर्माण की अनुमति जून में ड्रग कंट्रोलर ऑफ इंडिया से मिली थी

ड्रग कम्पनी ग्लेनमार्क कोविड-19 की दवा फैबीफ्लू का स्ट्रॉन्ग वर्जन पेश करेगी। कम्पनी फैबीफ्लू की 400 एमजी डोज वाली टेबलेट लॉन्च करेगी। ग्लेनमार्क के मुताबिक, कम्पनी का लक्ष्य गोलियों की संख्या को घटाकर डोज को पूरा करना है। इससे रोगियों को कम टेबलेट्स में पूरा डोज मिल जाएगा। फैबीफ्लू का इस्तेमाल कोरोना संक्रमण के हल्के और मध्यम लक्षणों वाले मरीजों का इलाज करने में किया जा रहा है। कम्पनी के मुताबिक, एक टेबलेट की कीमत 75 रुपए होगी।

अब तक फेविपिराविर का इस्तेमाल इन्फ्लुएंजा में किया जा रहा था
फैबीफ्लू टेबलेट में फेविपिराविर की डोज है। फेविपिराविर ड्रग को बड़े स्तर पर जापानी कम्पनी फुजीफिल्म होल्डिंग कॉर्प तैयार करती है। जापानी कम्पनी इसे एविगन के नाम से बाजार में बेचती है। 2014 से इसका इस्तेमाल इन्फ्लुएंजा के इलाज में किया जा रहा है। ग्लेनमार्क को फैबीफ्लू के निर्माण की अनुमति जून में ड्रग कंट्रोलर ऑफ इंडिया से मिली थी।

अभी फैबीफ्लू की 200 एमजी वाली टेबलेट उपलब्ध
ग्लेनमार्क ने हाल ही में फैबीफ्लू की 200 एमजी वाली टेबलेट लॉन्च की थी। कम्पनी के मुताबिक, कोरोना के रोगियों को पहले दिन इसकी 1800 एमजी की डोज दो बार लेनी पड़ती है। इसके बाद अगले 14 दिन तक 800 एमजी की डोज मरीज को दो बार दी जाती है। यानी मरीज को पहले दिन 18 गोलियां लेनी पड़ती हैं। इसके बाद उसे eight टेबलेट्स रोजाना दी जाती हैं। इन्हीं गोलियों की संख्या घटाने के लिए कम्पनी 400 एमजी डोज वाली टेबलेट लॉन्च करने की तैयारी कर रही है।

हाई पावर डोज से होगा सुधार
कम्पनी के मुताबिक, दवा की पावर बढ़ने से रोजाना ली जाने वाली टेबलेट की संख्या घटेगी। इससे थैरेपी का भार भी घटेगा, इलाज पहले के मुकाबले आसान होगा।

ग्‍लेनमार्क ने फैबीफ्लू नाम से एक टेबलेट उतारी थी जिसकी 200 एमजी की एक गोली 103 रुपए की थी। दो हफ्ते के पूरे कोर्स में मरीज को 122 टेबलेट्स दी जाती हैं जिससे दवा पर टोटल खर्च 12,500 रुपए होता है। हालांकि पिछले हफ्ते कंपनी ने दवा के दाम 27% कम करते हुए 75 रुपए कर दिए थे। इससे एक कोर्स पर 9,150 रुपए का खर्च आने लगा है।

0

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here