Importance of Knowledge, Motivational story about data, inspirational story about good life, prerak prasang | उपदेश सुनने और याद करने से हमारा जीवन नहीं बदल सकता, संत ने एक तोते को बोलना सिखाया पिंजरा छोड़ दो, उड़ जाओ

  • Hindi News
  • Jeevan mantra
  • Dharm
  • Importance Of Knowledge, Motivational Story About Knowledge, Inspirational Story About Good Life, Prerak Prasang

14 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • हम जब तक ज्ञान की बातों का अर्थ नहीं समझेंगे और जीवन में नहीं उतारेंगे, तब तक वह ज्ञान बेकार है

उपदेश और प्रवचन सुनने से हमारा जीवन नहीं बदल सकता है। जब तक हम ज्ञान की बातों का अर्थ नहीं समझेंगे और उन्हें जीवन में नहीं उतारेंगे, तब सारा ज्ञान बेकार है। इस संबंध में एक लोक कथा प्रचलित है। कथा के अनुसार पुराने समय में एक गांव में संत कुछ शिष्यों के साथ अपने आश्रम में रहते थे। संत बहुत ही विद्वान थे और शिष्यों को सुखी और सफल जीवन के उपदेश देते थे। उनके साथ ही एक छोटा बच्चा भी रहता था।

एक दिन उनका एक छोटा शिष्य कहीं से एक तोता ले आया और उसे पिंजरे में बंद कर दिया। संत ने शिष्य को समझाया कि उसे छोड़ दे, लेकिन शिष्य ने गुरु की बात नहीं मानी और तोते को साथ लेकर खेलने लगा। शिष्य बहुत छोटा था, इसीलिए गुरु उसे सख्ती से आदेश नहीं दे सकते थे।

संत ने सोचा कि अब तोते को ही मुक्त होने का तरीका सिखाना चाहिए। इसके बाद गुरु रोज तोते को एक पाठ पढ़ाने लगे। गुरु ने तोते को बोलना सिखाया कि पिंजरा छोड़ दो, उड़ जाओ।

तोत संत की सिखाई हुई बात रटने लगा। कुछ ही दिनों में तोते ने ये बात अच्छी तरह रट लिया। एक दिन छोटे बच्चे ने गलती से पिंजरा खुला छोड़ दिया। खुले पिंजरे से तोता बाहर आ गया, वह जोर-जोर से बोल रहा था कि पिंजरा छोड़ दो, उड़ जाओ।

संत ने देखा कि तोता पिंजरे से बाहर आ गया है और वह उनका सिखाई हुई बात रट रहा था। अब संत को लगा कि अब ये तोता उड़ जाएगा। संत जैसे ही तोते के पास पहुंचे, तो तोता दौड़कर अपने पिंजरे में घुस। पिंजर के अंदर भी तोता यही बोल रहा था कि पिंजरा छोड़ दो, उड़ जाओ।

तोते को फिर से पिंजरे में देखकर संत को बहुत दुख हुआ। संत ने सोचा कि तोते ने सिर्फ शब्द याद कर लिए हैं, वह इनका मतलब नहीं जानता है। इस पर उपदेश का कोई असर नहीं हुआ है।

कथा की सीख

इस छोटी सी कथा की सीख यह है कि अधिकतर लोग उपदेश और प्रवचन सुनते हैं, लेकिन उनका मतलब नहीं समझते हैं और ना ही उन्हें जीवन में उतारते हैं। इसी वजह से उनके जीवन की समस्याएं बनी रहती हैं।

उपदेश को जब तक समझेंगे नहीं, उन पर चलेंगे नहीं तब तक उनसे कोई भी लाभ नहीं मिल सकता है। ज्ञान की बातें तभी हमारे काम आ सकती हैं, जब हम उन्हें अपनाएंगे।

0

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here