Uttarakhand chardham yatra 2020, chardham yatra 2020, kedarnath, badrinath, gangotri, yamunotri, kedarnath dham, badrinath dham darshan | उत्तराखंड के साथ ही अन्य प्रदेशों के भक्त भी कर सकेंगे केदारनाथ-बद्रीनाथ के दर्शन, 72 घंटे पहले की कोरोना निगेटिव रिपोर्ट और ई-पास जरूरी

  • Hindi News
  • Jeevan mantra
  • Dharm
  • Uttarakhand Chardham Yatra 2020, Chardham Yatra 2020, Kedarnath, Badrinath, Gangotri, Yamunotri, Kedarnath Dham, Badrinath Dham Darshan

eight घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • अभी तक उत्तराखंड के 21,178 भक्तों को चारधाम दर्शन के लिए देवस्थानम बोर्ड जारी किए ई-पास, दस हजार से ज्यादा लोगों ने किए चारधाम में दर्शन
  • देवस्थानम् बोर्ड के मीडिया प्रभारी डॉ. हरिश गौड़ ने कहा- अभी तक सिर्फ प्रदेश के लोग ही दर्शन लाभ ले पा रहे थे, अब पूरे देश के लोग आ सकते हैं

1 जुलाई से सिर्फ उत्तराखंड के लोगों के लिए यहां के चारधाम में दर्शन व्यवस्था शुरू कर दी गई थी। अब अन्य प्रदेश के लोग भी केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री के दर्शन कर सकेंगे। उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रविनाथ रमन ने कहा कि अब दूसरे प्रदेशों से आने वाले भक्तों के लिए भी तय नियमों के साथ चारधाम यात्रा शुरू कर दी गई है।

अन्य प्रदेशों से आने वाले भक्तों को नए नियमों के मुताबिक, 72 घंटे पहले की कोरोना निगेटिव रिपोर्ट और देवस्थानम बोर्ड द्वारा जारी ई-पास लेकर आना होगा। तभी उन्हें यहां दर्शन करने की अनुमति दी जाएगी। साथ ही, भक्तों को सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क और सैनिटाइजेशन का विशेष ध्यान रखना होगा।

बोर्ड की वेबसाइट पर कराना होगा रजिस्ट्रेशन

देवस्थानम बोर्ड के मीडिया प्रभारी डॉ. हरीश गौड़ ने बताया कि अभी तक सिर्फ प्रदेश के लोग ही दर्शन लाभ ले पा रहे थे। अब पूरे देश के लोग यहां दर्शन करने आ सकते हैं। इसके लिए भक्तों को देवस्थानम बोर्ड की वेबसाइट www.badrinath-kedarnath.gov. in पर रजिस्ट्रेशन करना होगा। रजिस्ट्रेशन के बाद ई-पास मिलेगा। ई-पास के बिना दर्शन की अनुमति नहीं मिल पाएगी।

1 जुलाई से 24 जुलाई तक उत्तराखंड के 21,178 लोगों को चारधाम दर्शन के लिए ई-पास जारी किए जा चुके हैं। जुलाई माह में 10 हजार से ज्यादा श्रद्धालुओं ने इन मंदिरों में दर्शन किए हैं। इन मंदिरों में भक्तों को थर्मल स्क्रीनिंग, सैनिटाइजेशन के बाद ही प्रवेश दिया जा रहा है। यात्रियों के लिए यहां के विश्राम गृह खोल दिए गए हैं।

0

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here